#

सरकार द्वारा आंगनबाड़ी सेविका एवं सहायिका के चयन प्रक्रिया में एक बहुत बड़ा बदलाव किया गया है। विस्तार पूर्वक बताएं तो आंगनबाड़ी सेविका सहायिका के चयन के लिए नई नियमावली के अनुसार आवेदिका की शैक्षणिक योग्यता को ही मुख्य रूप से केंद्र में रखा जाएगा । वर्तमान समय में आवेदन करने वाली महिला की शैक्षणिक योग्यता इंटर पास तय की गई थी, लेकिन नई नियमावली के कारण अब अगर किसी एम ए पास या पीएचडी की हुई महिला द्वारा आंगनबाड़ी सेविका या सहायिका के लिए आवेदन किया जाता है तो उसके नीचे आने वाले मैट्रिक, इंटर व बीए पास महिलाओं के आवेदनों को स्वीकार नहीं किया जाएगा।

 

# क्या है नई नियमावली__

नई नियमावली के अनुसार सबसे उच्च शैक्षणिक योग्यता वाली महिला को ही आंगनबाड़ी सेविका व सहायिका के पद पर चयनित किया जाएगा। बताया जा रहा है कि आंगनबाड़ी सेविका व सहायिका के चयन की नियमावली तैयार किए जाने के वक्त यह प्रस्ताव रखा गया कि चयन के लिए ग्राम सभा की अनिवार्यता को हटा दिया जाए। इसके पीछे का कारण इस प्रक्रिया के वजह से होने वाले विलंब एवं धांधली की शिकायतों को बताया गया। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि इस प्रस्ताव को बड़े स्तर पर विचार – विमर्श कर खारिज कर दिया गया है। प्रस्ताव पर विचार कर इस प्रक्रिया को पारदर्शी बनाने का प्रावधान करने के निर्देश जारी किए गए हैं। अगर इसके बाद भी कोई आपत्ति जताई जाती है, तो उसका समाधान भी पारदर्शी तरीके से करने के निर्देश मिले है।

 

#  हर बात का रखा जाएगा प्रमाण__

चयन के लिए जो शर्त रखी गई हैं उसका अनुपालन शत प्रतिशत किया गया है इसका प्रमाण होना आवश्यक होगा। आम तौर पर यह शिकायत रहती है कि आवेदकों को ग्राम सभा के आयोजन की तारीख के बारे में बताया ही नहीं गया। यह सुनिश्चत किया जाएगा कि सभी आवेदकों को इस बारे में सूचना उपलब्ध कराया जाए एवं इसका प्रमाण भी रखा जाए । क्योंकि चयन के बाद धांधली की कई शिकायतें आती हैं। जनता के दरबार में मुख्यमंत्री कार्यक्रम में आंगनबाड़ी सेविका व सहायिका के चयन को लेकर जो शिकायतें पहुंची उनमें अधिकतर इसी प्रकार के थे कि ग्राम सभा के आयोजन की तारीख होने बताई ही नहीं गई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *