बिहार के रेलयात्रियो को बड़ी राहत देते हुए दानपुर मंडल ने बड़ी घोषणा की है। इस फ़ैसले से यात्रीयो को बड़ी राहत मिली है, ख़ासकर वैसे लोग जिनके परिजन उनको स्टेशन छोड़ने अथवा अपने सम्बन्धी को ट्रेन तक छोड़ने आते है। कोरोनाकाल में रेलवे द्वारा प्लेटफ़ोर्म टिकट का क़ीमत बढ़कर 50 रुपए कर दिए गए थे, जिसमें बड़ी राहत देते हुए रेलवे ने यात्रीयो की मुसकिले आसान कर दी है।

 

प्लेटफ़ोर्म टिकट का क़ीमत 50 रुपए करने के पीछे रेलवे का मक़सद सिर्फ़ प्लेटफ़ोर्म के भीड़ को कम करना था जिससे कोरोनावायरस का संक्रमण ना बढ़े। लेकिन अब स्थिति लगभग सामान्य होते हाई रेलवे ने वापस प्लेटफ़ोर्म टिकट का क़ीमत 10 रुपए कर दिया है। रेलवे के इस फ़ैसले से सभी रेलयात्रीयो में ख़ुशी की लहर है। रेकर्ड के हिसाब से प्रतिदिन 800 से 1000 प्लेटफ़ोर्म टिकट बिकते थे।

 

यह रेकर्ड पटना जंक्शन का है यहाँ 50 रुपए के हिसाब से 1000 प्लेटफ़ोर्म टिकट का क़ीमत या कहे रेलवे की कमाई 50000 हो जाती थी, जो की अब प्लेटफ़ोर्म टिकट का क़ीमत 10 रुपए होने के वजह से टिकट की बिक्री दो गुनी हो चुकी है लेकिन रेलवे की आय घटी है, आज के रेकर्ड के अनुसार 1900 प्लेटफ़ोर्म टिकट बिके हैं, जिससे रेलवे को 19000 का आय हुआ है।