#

बिहार के विकास की ओर जाने की राह में बिहार निवेश प्रोत्साहन पर्षद द्वारा एक और कदम बढ़ाया गया है जिसमें 48 निवेश प्रस्तावों को मंजूरी मिली है। विस्तार पूर्वक बताएं तो बिहार निवेश प्रोत्साहन पार्षद द्वारा बैठक में 48 निवेश के प्रस्तावों को पहले चरण की सहमति प्रदान की गई है । खबर के अनुसार उन 48 प्रस्तावों में मुजफ्फरपुर एवं गोपालगंज के इथेनॉल प्रोजेक्ट का नाम भी शामिल है। इन 48 प्रस्तावों की कुल अनुमानित लागत करीब 1,077 करोड़ रुपए बताई जा रही है ।

 

जानकारों की मानें तो यह इथेनॉल प्रोजेक्ट बिहार विकास की राह में एक महत्वपूर्ण कदम साबित हो सकता है क्योंकि इस क्षेत्र में जहां एक तरफ अच्छे खासे निवेश की संभावना है तो वहीं दूसरी तरफ यह क्षेत्र रोजगार देने के मामले में भी कारगर साबित होगा। माना जा रहा है कि काफी लंबे अंतराल के बाद विकास आयुक्त की अध्यक्षता में हुई बैठक में उद्योग विभाग के प्रधान सचिव और उद्योग निदेशक भी मौजूद थे।

 

#  दरभंगा में बनने जा रहा 70 बेड का अस्पताल___

पर्षद की बैठक में जिन 48 प्रस्तावों को पहले स्टेज की सहमति दी गई, उनमें मुजफ्फरपुर में अनाज आधारित प्रोजेक्ट में 141.60 करोड़, जबकि गोपालगंज में 136 करोड़ का निवेश होगा । बियाडा मुजफ्फरपुर में 85 करोड़ से बिस्किट फैक्ट्री, 74 करोड़ की लागत से न्यूट्रिशन पाउडर और 87 करोड़ की लागत से टोमैटो कैचअप कारखाना लगाने के प्रस्ताव को भी मंजूरी मिली। इसके अलावा 12 करोड़ की लागत से दरभंगा में 70 बेड का अस्पताल स्थापित होगा ।

 

#  गया और भागलपुर में भी जल्द ही होटल का निर्माण होगा शुरू___

इसी तरह गया में 12 करोड़ और भागलपुर में 7.78 करोड़ की लागत से बनने वाले होटल को भी स्वीकृति मिली । स्वीकृत योजनाओं में समस्तीपुर में 5 करोड़ और सीतामढ़ी में 3.19 करोड़ की मखान प्रोसेसिंग यूनिट भी इस प्रस्ताव में शामिल है । पर्षद ने चावल मिल, पेट्रोलियम कोक, सर्जिकल बैंडेज, पीवीसी पाइप, आटा-चावल मिल, इलेक्ट्रिक रेसिस्टेंस वेल्डेड ट्यूब्स, मखान, वोवेन फैब्रिक सिरप-टैबलेट, नूडल्स, बिस्किट, ब्रेड- कूकिज- केक-पेस्ट्री- रस्क ब्रेड-बन्स की फैक्ट्री प्रस्तावों पर भी सहमति दी । स्नैक्स, मस्टर्ड ऑयल, प्लास्टर ऑफ पेरिस, साल्टेड नमकीन, जूट बैग, स्वीट्स-नमकीन, नोटबुक, यूरिन बैग, वर्मिसेल के प्रस्ताव मंजूर हुए ।

 

# निवेशकों को लुभा रहा बिहार का इथेनॉल सेक्टर____

सुनने में आ रहा है कि निवेशकों को बिहार का इथेनॉल सेक्टर काफी लुभा रहा है। विगत चार-पांच सालों में इस क्षेत्र के लिए अब तक की सर्वाधिक प्रस्ताव आ चुके हैं। इतना ही नहीं मंजूरी मिलने में भी पहला नाम एथेनॉल प्लांट का ही रहा है। जानकारों की मानें तो विगत 4 से 5 सालों में इथेनॉल सेक्टर में 3245 40000000 रुपए के निवेश के प्रस्ताव को मंजूरी प्रदान की गई है। जिसके तहत पहले चरण में 159 यूनिट को स्वीकृति प्रदान की गई है। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि यह निवेश पर हार के कुल निवेश का 57% है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *