महामारी के कारण लोग घर में ज्यादा रहना पसंद कर रहें थे दूसरी तरफ बसों और ट्रेनों के चलने पर रोक लगा दी गई थी। लेकिन संक्रमितों की संख्या कम होते ही यात्रियों की संख्या में बढोत़्तरी हुई तो ट्रेनों मे धक्के मुक्के खाते हुए सफर करना पड़ता है और यात्री बस से सफर करना पसंद करने लगे परंतु यात्रियों की बढ़ती संख्या के कारण बसों की भी संख्या कम पड़ रही है

 

पटना से दिल्ली के लिए चार बसों का परिचालन और बढ़ाया जाए –

इसलिए परिवहन निगम ने बसों की संख्या बढ़ाने का निर्णय लिया अब पटना से दिल्ली के लिए चार बसों का परिचालन और बढ़ाया जाए निर्णय लिया इन बसों का परिचालन सितंबर की 15 तारीख से होगा। वर्तमान समय की बात करें तो प्रत्येक दिन 1 बस का परिचालन किया जा रहा है। 1 दिन सीटर तो दूसरे दिन स्लीपर बस चल रही है। इस तरह से दिल्ली आने जाने में तकरीबन 20 घंटे का समय लग रहा है।  किराए की बात करें तो किराया 1650 से अट्ठारह सौ रुपए निर्धारित किया गया है।

 

प्राइवेट बस मालिकों के जरिए दिल्ली के लिए बसों की संख्या बढ़ाई –

दूसरी तरफ प्राइवेट बस मालिकों के जरिए दिल्ली के लिए बसों की संख्या बढ़ाई जाएगी। सितंबर की 15 तारीख के बाद से यह 6 बसे प्रत्येक दिन चलाने का निर्णय लिया गया है। दुर्गा पूजा को लेकर जिलों तथा अन्य राज्यों के लिए भी बसों की संख्या बढ़ा दी जाएगी। इन बसों के चलने से यात्रियों को काफी सहूलियत मिलेगी। यात्री पटना से दिल्ली सुकून से जा आ सकेंगे। वर्तमान समय में कम संख्या में ट्रेन चलने से मारामारी की स्थिति बनी है और सबको सीट नहीं मिल पाती है जिसके चलते यात्री बस का रुख करते हैं तो बसों की संख्या भी कम मिलती है जिसके चलते परिवहन निगम ने इन बसों की संख्या बढ़ाने का निर्णय लिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *