#

घरेलू सिलेंडरों की दुनिया में एक नया नाम जुड़ा है, जिसे सभी कमपोजिट एलपीजी सिलेंडर के नाम से जानते हैं । हालांकि यह कमपोजिट सिलेंडर वर्तमान में बिहार के चुनिंदा शहरों में ही उपलब्ध है, लेकिन यह काफी प्रसिद्ध भी हो चुका है। वजह है इस सिलेंडर का वजन एवं इसकी पारदर्शिता। बताया गया है कि यह सिलेंडर वजन में लाल रंग के घरेलू सिलेंडर के मुकाबले काफी हल्का है एवं इसकी पारदर्शिता की वजह से लोगों को काफी सुविधा मिली है । आमतौर पर घरेलू सिलेंडरों के अंदर मौजूदा गैस की मात्रा को जानना काफी मुश्किल है जिसके कारण लोगों को काफी दिक्कत होती थी, लेकिन नए कमपोजिट सिलेंडर के आने के बाद उनकी सारी दिक्कतें भी समाप्त हो जाएंगी।

 

बात करते हैं लोगों को मिलने वाली एक और खुशखबरी की तो आपको बता दें कि जिस कमपोजिट सिलेंडर की शुरुआत सितंबर 2021 में की गई थी वह धीरे-धीरे बिहार के लगभग हर शहर में अपनी पहुंच बना रहा है। वर्तमान समय की बात करें तो यह सिलेंडर सिर्फ 5 जिलों में ही उपलब्ध था, जिनमें पटना, गया, नालंदा, बेगूसराय एवं आरा जिले का नाम शामिल है। यहां आपको बता दें की इसी माह से आईओसी के डिविजनल एरिया ने टाउन एरिया से इसकी शुरुआत की है जिसके बाद अब हाजीपुर में भी यह कमपोजिट सिलेंडर उपभोक्ताओं को मिलने लगा है। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि हाजीपुर बिहार का छठवां शहर है जहां कंपोजिट सिलेंडर की शुरुआत की गई है।

# क्या है इस सिलेंडर की खासियत__

आइओसीएल के डिविजनल एलपीजी हेड राहुल दीक्षित ने कहा कि कमपोजिट सिलेंडर का दायरा चरणबद्ध तरीके से बढ़ाया जा रहा है ।क्योंकि इस सिलेंडर का कुछ हिस्सा पारदर्शी है इसलिए अचानक गैस खत्म होने की वजह से होने वाली परेशानी से उपभोक्ताओं को राहत मिलेगी। इस कंपोजिट सिलेंडर की वजह से गैस खत्म होने से पहले ही लोग दूसरे गैस सिलेंडर के लिए बुकिंग करा पाएंगे। दूसरी खास बात इस सिलेंडर के बारे में यह है कि इस पर जंग नहीं लगता, जिसके कारण इसका बाहरी हिस्सा जल्दी खराब नहीं होगा। खबर के अनुसार हाजीपुर के टाउन एरिया में इसकी शुरुआत हो चुकी है और लगभग 1 महीने में यह सभी एजेंसियों के पास उपलब्ध होगा।

 

# किस जिले में है उपभोक्ताओं की संख्या सबसे कम__

पटना जिले में अभी कंपोजिट सिलेंडर के उपभोक्ता करीब 900 हैं जबकि कुल एलपीजी उपभोक्ताओं की संख्या 8.9 लाख है। जिले की कुल 70 एजेंसियों में कंपोजिट सिलेंडर की उपलब्धता रहने के बाद भी कंपोजिट सिलेंडर के उपभोक्ता अभी कम हैं। इसके प्रति लोगों को जागरूक होने की जरूरत है। बिहार एलपीजी वितरक संघ के महासचिव डाक्टर रामनरेश सिन्हा ने कहा कि जागरूकता की कमी है। हालांकि जो उपभोक्ता कंपोजिट सिलेंडर का उपयोग कर रहे हैं वे संतुष्ट हैं। क्योंकि इस कंपोजिट सिलेंडर में विस्फोट नहीं होता इसलिए लोग इसे आम लाल घरेलू सिलेंडर के मुकाबले ज्यादा सुरक्षित मानते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *