लंबे समय से चल रहे हैं  बिजली कंपनी के सर्वर में आई तकनीकी खराबी के कारण लोग बिजली का बिल नहीं जमा कर पा रहे थे और उनमें डर बना हुआ है, कहीं बिजली कनेक्शन ना काट दिए जाएं, जिसके चलते कई बार काउंटर पर उमड़ी भीड़ भी देखी गई। उसके बाद बीच में सुनने में आया सर्वर तकनीकी खराबी को दूर कर दिया गया है।

 

तकनीकी खराबी एक माह बाद भी दूर नहीं हुई।

मगर ऐसा नहीं है तकनीकी खराबी एक माह बाद भी दूर नहीं हो पाई। जुलाई की शाम में तकनीकी खराबी आने के पश्चात सर्वर बंद है। अगस्त की 21 तारीख से कंपनी की वेबसाइट पर एक बार फिर ऑनलाइन बिजली बिल जमा करने की प्रक्रिया प्रारंभ हो पाई है। और सुविधा एप से अब तक बिजली बिल जमा नहीं हो पा रहा है और सर्वर में खराबी आने के वजह से बिहार राज्य के शहरी क्षेत्रों में बिजली कनेक्शन मिलना भी बंद हो गया है यदि बात करें रीडिंग की तो रीडिंग भी मिलनी बंद है। और कार्यकताओं को बिजली बिल नहीं मिल पा रहा है।

 

बिजली बिल जमा काउंटर खुले हैं,

काउंटर तो खुले हैं परंतु बिल ना मिलने के कारण काफी सन्नाटा है। बिहार राज्य के शहरी क्षेत्र के उपभोक्ताओं का सर्वर ठीक होने के बाद ही बिजली का बिल जमा करना होगा। उपर्युक्त के अलावा बिजली कंपनी औद्योगिक उपभोक्ताओं से मैनुअल मीटर रीडिंग लेकर बिल बैंक खाते में सीधे जमा करवा रही हैं, हालांकि घरेलू और व्यावसायिक व भुगतान मीटर रीडिंग नहीं होने तथा बिजली बिल नहीं मिलने के कारण परेशान हैं।

 

आईटी सेल कंपनी ने दिया आश्वासन –
बिजली कंपनी आईटी सेल के आश्वासन के पश्चात सितंबर के 1 तारीख से मीटर रीडिंग कराने की तैयारी में लगी है, हालाकि सर्वर पूरी तरह से अभी ठीक नहीं हो पाया है। पटना के विद्युत आपूर्ति प्रतिष्ठान के महाप्रबंधक जिनका नाम दिलीप कुमार है उन्होंने बताया विद्युत कंपनी के निर्देश मिलते ही तुरंत मीटर रीडिंग का काम प्रारंभ हो जाएगा। वहीं दूसरी ओर भुगतान देरी से बिजली का बिल जमा करने के लिए दंड नहीं लगेगा और उपभोक्ताओं को छूट दी जाएगी जिसका वह लाभ ले सकेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *