हिंदू धर्म में पितृपक्ष का बहुत महत्व होता है। पितृपक्ष को श्राद्ध पक्ष भी कहा जाता है। इस दौरान पितरों का श्राद्ध और तर्पण किया जाता है। पितृपक्ष मेला लगने में सिर्फ कुछ ही दिन बचे हैं। पर्यटन विभाग के साथ-साथ जिला प्रशासन भी पूरी तरह से तैयारियों में जुटे है। ताकी तीर्थयात्रियों को कोई भी परेसानीयो का सामना ना करना पड़े। पितृपक्ष 9 सितंबर से शुरू होकर 25 सितंबर तक चलेगा। शहर के विभिन्न क्षेत्रों में स्थित पिंडवेदियों के परिवहन के लिए पूरी व्यवस्था की गई है । 9 सितंबर से शुरू हो रही 17 दिनों की पितृपक्ष मेले में 103 रिंग बसें चलाई जाएंगी । इनमें से 15 की संख्या में सीएनजी बसें भी शामिल हैं । सभी सीएनजी बसों को विष्णुपद और बोधगया के बीच चलाया जाएगा। इन बसों की निगरानी निगम प्रशासन करेगा। सभी सीएनजी बसों में 30 सीट होगी । 50 नि:शुल्क ई-रिक्शा की व्यवस्था विष्णुपद मंदिर जाने के लिए की गई है ।

 

# पितृपक्ष मेले की तैयारी जिला प्रशासन ने शुरू कर दी है………..

पितृपक्ष मेले के संबंध में जिला प्रशासन द्वारा स्थापित परिवहन एवं परिवहन व्यवस्था कोषांग के प्रभारी जिला परिवहन पदाधिकारी विकास कुमार जी का कहना है कि विष्णुपद मंदिर से प्रेतशिला के बीच 40 रिंग बसें चलाई जाएगी । इसके साथ ही रेलवे स्टेशन से विष्णुपद के बीच 15 और विष्णुपद और बोधगया के बीच 12 रिंग बसों का संचालन किया जाएगा। उन्होंने यह भी कहा कि सभी रिंग बसे और सीएनजी बसों का समय तय कर दिया गया है, और तीर्थयात्री सुबह 5:00 बजे से रात 9:00 बजे तक बसों का उपयोग कर सकेंगे। हालांकि उन्होंने कहा कि अगर आवश्यक हुआ तो समय सीमा में बदलाव भी किया जा सकता है।

 

# मेले के दौरान रेलवे स्टेशन पर लगाया जाएगा काउंटर…………..

जिला प्रशासन की ओर से पितृपक्ष मेले में पिंडदानियों को परिवहन एवं परिवहन सुविधा प्रदान कराने के लिए रेलवे स्टेशन पर प्रीपेड टैक्सी व ऑटो संचालन के लिए काउंटर भी लगाया जायेगा। सभी ड्राइवरों को परिवहन नियमों का पालन करने और तीर्थयात्रियों को आर्थिक शोषण से बचाने के लिए भी प्रशिक्षित किया जाता है।

 

# बोधगया आने वालों को अगले साल से मिलने लगेगी खास सुविधाएं………

बिहार में हर साल पर्यटकों की संख्या बढ़ती ही जा रही है । पर्यटन विभाग के रिपोर्ट के मुताबिक गोवा के बाद बिहार ही एक ऐसी जगह है जहां इतनी बड़ी संख्या में पर्यटक आते हैं। ऐसे में बोधगया में पर्यटकों के लिए जी प्लस सेवन गेस्ट हाउस बनाया जा रहा है। जिसका काम अगले साल तक पूरा कर लिया जाएगा। कार्य स्थल का निरीक्षण भवन निर्माण विभाग एवं पर्यटन विभाग द्वारा किया जाता है।

 

# यह विशेष होगा……….

गेस्ट हाउस को फोर स्टार कैटेगरी में बांटा गया है। इसमें 100 कमरे होंगे। इस अतिथि शाला का निर्माण अत्याधुनिक गुणवत्ता से किया जा रहा है। इसमें दो प्रेसिडेंसियल स्वीट, आठ वीआईपी स्वीट, 80 डबल बेड होंगे। इसके अलावा 30 बेड का गेस्ट डॉरमेट्री भी होगा। इस गेस्ट हाउस में सभी सुविधाओं के साथ दो रेस्टोरेंट भी होंगे, एक एक्जीविशन कम बिजिनेस सेंटर बनाया जाएगा। यह पूरा इलाका पुरी तरह से वाईफाई जोन होगा। जहां लोगो को इंटरनेट की परशानी नहीं होगी। वहां लोग आसानी से इंटरनेट का उपयोग और आनंद ले सकेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *