आज हम जिन शख्सियत के बारे में बताने जा रहे हैं उनका नाम अंकिता सिंह हैं अंकिता ने यूपी पीसीएसजे 2018 में 86 रैंक हासिल की थी। वर्तमान में अंकिता आजमगढ़ जिले में सीविल कोर्ट कार्य के लिए कार्यरत हैं  अकिंता बताती हैं  उन्होंने 12th पीसीएम से किया
उसके बाद वो इंजीनियरिंग की तरफ जाना चाहती थी। बताती हैं उनकी सिस्टर ने उनको एलएलबी करने के लिए बोला तो 5 ईयर कोर्स ऑनर्स से लखनऊ यूनिवर्सिटी से किया

 

 

उसके बाद 2016 में डिसाइड करा उन्हें जुडिशरी करनी है कोचिंग पता करी कोचिंग कोई लखनऊ में अच्छी ना होने के कारण सेल्फ स्टडी स्टार्ट करदी, उन्होंने बताया  सबसे ज्यादा दिक्कत ये होती है नोटिफिकेशन नहीं आते हैं। कभी 2 साल बाद कभी 3 साल बाद ही आते ये रेगुलर नहीं आते तो उन्होंने इन्तजार किया बैठी थी।  अंकिता का बीच में एडवोकेसी का भी दिल करा लेकिन उन्होंने इंटर्नशिप करके छोड़ दी और डिसाइड किया मुझे जुडिशरी करना है तो उन्होंने  पहला इंटरव्यू दिया और पहले ही अटेम्ट में सलेक्शन हो गया

 

 

लोगों को काफी समय लगता है तैयारी में किस तरीके से प्रिपरेशन करनी चाहिए?


अंकिता बताती हैं उन्होंने सबसे ज्यादा law पर अच्छी कमांड बनाई और स्मार्ट स्टडी की. कहती हैं मैंने चार जगह सुना नहीं बल्कि जो मुझे सही लगा वह मैने करा लॉ कॉलेज से काफी डिफरेंट होता है कंपटीशन हमें लगता है  हम आंसर राइटिंग कर, वहां पर उसको भी कर लेंगे, लेकिन वह काफी डिफरेंट होता है। उसी हिसाब से मैंने स्ट्रेटजी बनाई थी। कहती हैं लास्ट ईयर क्वेश्चन पेपर देखें और आंसर राइटिंग प्रैक्टिस करी। जितने टाइम तक एलएलबी की पढ़ाई की और एलएलबी के बाद भी मैं अपडेट रहीं मैंने मोबाइल ऐप भी डाउनलोड कर रखा था। जिससे मुझे सहायता मिलती थी

Leave a Reply

Your email address will not be published.