शुक्रवार, दिसम्बर 3

खुशखबरी : गोरखपुर से एक और रेल लाइन का सौगात, 992 करोड़ से बनेगा रेलमार्ग बढ़ेगी ट्रेनों की संख्या

रेल मंत्रालय ने पूर्वोत्तर रेलवे और पूर्व मध्य रेलवे को जोडऩे वाले रेल मार्ग गोरखपुर कैंट-वाल्मीकिनगर के दोहरीकरण कार्य को हरी झंडी दे दी है। 992 करोड़ की लागत से इस 87 किमी लंबे रेलमार्ग पर एक और रेल लाइन बिछाई जाएगी। पूर्वोत्तर रेलवे प्रशासन इस दोहरीकरण के कार्य को अंब्रेला वर्क (किसी दूसरे जोन के रेलवे को आवंटित धन से) से पूरा करेगा। उत्तर रेलवे के निर्माण बजट में इसके लिए धन का आवंटन कर दिया गया है।

फिलहाल, इस सिंगल रेल लाइन का विद्युतीकरण हो चुका है। इसके बाद भी गाडिय़ों की संख्या नहीं बढ़ पा रही है। मालगाडिय़ों के चलते लोकल ट्रेनें विलंबित हो रही हैं। डबल लाइन हो जाने से सहूलियत मिलेगी। गोरखपुर के रास्ते बिहार से दिल्ली जाने वाली ट्रेनों की राह और आसान हो जाएगी। वैसे भी पूर्वोत्तर रेलवे के सभी प्रमुख रेलमार्गों का दोहरीकरण हो चुका है। भटनी-औंडि़हार मार्ग के दोहरीकरण कार्य को भी हरी झंडी मिल चुकी है।

इन रेलमार्गों के दोहरीकरण के लिए भी मिला धन, औंडि़हार-मंडुआडीह- एक करोड़, छपरा-बलिया – 24 करोड़, गाजीपुर सिटी-औंडि़हार- 43 करोड़, रोजा-सीतापुर-बुढवल- 460 करोड़, वाराणसी-माधोसिंह-इलाहाबाद- 50 करोड़, फेफना-इंदारा व मऊ-शाहगंज- 50 करोड़, औंडि़हार-जौनपुर – 50 .नौगढ़ रेलवे स्टेशन अब सिद्धार्थनगर के नाम से जाना जाएगा। मुख्य जनसंपर्क अधिकारी पंकज कुमार सिंह के अनुसार लखनऊ मंडल के इस रेलवे स्टेशन का नाम बदल दिया गया है। समस्त वैधानिक औपचारिकताएं भी पूरी कर ली गई हैं। सिद्धार्थनगर रेलवे स्टेशन का कोड एसडीडीएन होगा।

उधर, गोरखपुर- नौतनवां- गोंडा रेल लाइन पर कैंपियरगंज रेलवे स्टेशन के 25 सी गेट के समीप अचानक मालगाड़ी के रुक जाने से लगभग दो घंटे पीपीगंज व आनंदनगर स्टेशन के बीच रेल यातायात बाधित रहा। ऐसे में यात्रियों को असुविधा का सामना करना पड़ा। जानकारी के अनुसार गोरखपुर से बढऩी की ओर मालगाड़ी जा रही थी। लगभग 5.30 बजे कैंपियरगंज से मालगाड़ी पास हुई जो कैंपियरगंज स्टेशन के 25 सी गेट के आगे पहुंचते ही खड़ी हो गई।

जिससे रेल ट्रैक बाधित हो गई। इसके बाद आनंदनगर की ओर से आए इंजन को मालगाड़ी में जोड़कर पुन: कैंपियरगंज स्टेशन लाया गया। इस प्रकिया में दो घंटे लगने से जहां तहां ट्रेने खड़ी रहीं। ट्रैक बाधित होने से पीपीगंज और आनंदनगर के बीच लगभग दो घंटे रेल संचालन बाधित रहा। अचानक मालगाड़ी खड़ी होने के कारणों का पता नहीं चल सका।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *