गोरखपुर रेलवे स्टेशन की नई पहल, शुरू हुई कॉन्टैक्टलेस जाच, नियम ना मानने वालों पर भारी जुर्माना।

 

गोरखपुर,( कुलसूम फात्मा )  रेलवे प्रशासन ने मास्क ना लगाने वालों के साथ-साथ रेलवे स्टेशन पर इधर-उधर थूकने वालों पर भी सख्ती कर दी  ,जी हां कोरोना महामारी के बढ़ते संक्रमण को देख पूर्वोत्तर रेलवे प्रशासन ने कोरोना से लड़ाई के लिए पूर्ण रूप से गंदगी तथा महामारी के फैलने वाले हर एक कार्य पर रोक लगा रहा है। रेलवे बहुत जल्द रेलवे स्टेशन पर यात्रियों के साथ साथ रेल कर्मियों को भी संक्रमित होने से बचाने का तरीका खोज रहा है। अब स्टेशनों के गेट को बिना छुए टिकट की जांच करेंगे। इसके लिए गोरखपुर स्टेशन के फर्स्ट क्लास तथा वीआईपी गेट पर कांटेक्टलेस टिकट जांच सिस्टम लगा दिए गए हैं। इससे अनाधिकृत टिकट वाले यात्रियों को गेट से तुरंत वापस कर दिया जाएगा। उपर्युक्त व्यवस्था से पारदर्शिता भी बढ़ेगी और संक्रमण का खतरा कम हो जाएगा। रविवार से यानी आज से कांटेक्ट लेस टिकट जाच सिस्टम कार्य शुरू कर दिया जा चुका है।

 

 

गोरखपुर मुख्य जनसंपर्क अधिकारी पंकज कुमार सिंह ने बताया कोरोना महामारी की रोकथाम के लिए फेस मास्क एक प्रभावी उपाय है। ऐसे में ट्रेन यात्रा के दौरान फेस मास्क तथा फेस कवर जरूरी कर दिया गया है। और जो लोग नियम नहीं मानेंगे उन पर रेलवे ने 100रू से 500 का जुर्माना रखा है यही नहीं बल्कि जो लोग इधर-उधर स्टेशन पर थूकते हैं और गंदगी फैलाते हैं उनके लिए भी ₹500 जुर्माना रखा गया है।

 

 

उपर्युक्त के अलावा सर्वप्रथम तो बिना फेस मास्क तथा फेस कवर के लगाए बिना लोग रेलवे स्टेशन पर प्रवेश ही नहीं कर सकेंगे। मुख्य जनसंपर्क अधिकारी ने रेल यात्रियों तथा उपभोक्ताओं से रिक्वेस्ट की है के वे कृपया कर  संक्रमण को रोकने के लिए ट्रेनों में जरूरी प्रोटोकॉल का पूर्ण रुप से पालन करें और शारीरिक दूरी बनाए रखें। बार-बार हाथों को स्वच्छ और सेनिटाइज़ करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published.