बुधवार, दिसम्बर 8

गोरखपुर में 62 औद्योगिक इकाइयों को उत्पादन की मिली अनुमति, जनसेवा केंद्रों को भी खोलने की अनुमति

लॉकडाउन के दौरान गोरखपुर में औद्योगिक इकाइयों में उत्पादन को और रफ्तार मिलने की उम्मीद बढ़ गई है। सोमवार से गोरखपुर औद्योगिक विकास प्राधिकरण (गीडा) में जहां एक दर्जन नई इकाइयों में उत्पादन शुरू हो गया, वहीं इंडस्ट्रियल इस्टेट की करीब 12 इकाइयों के लिए पास जारी किए जाएंगे। गीडा में दो दिनों में करीब 60 पास बनाए गए हैं। इनमें व्यक्तिगत व वाहन पास, दोनों शामिल हैं। जरूरी सामानों के अलावा करीब 62 औद्योगिक इकाइयों को उत्पादन शुरू करने की अनुमति मिली है।

इसमें से 15 में उत्पादन शुरू भी हो चुका है। 12 और इकाइयों में सोमवार को उत्पादन शुरू होने की संभावना है। इंडस्ट्रियल इस्टेट में 12 उद्यमियों ने पास के लिए आवेदन कर रखा है। पास छपकर न आने के कारण शुक्रवार व शनिवार को यहां कोई पास नहीं जारी हो पाया था लेकिन सोमवार से पास जारी किए जाएंगे। जिन इकाइयों में उत्पादन हो रहा है, वहां सुरक्षा का पूरा ध्यान रखा जा रहा है। फैक्ट्री में प्रवेश से पहले सभी के तापमान की जांच की जा रही है। सैनिटाइजर व मास्क का प्रयोग सभी कर्मचारी कर रहे हैं। सुरक्षा के मानकों पर नजर रखने के लिए गीडा प्रशासन व उपायुक्त उद्योग की ओर से जांच भी की जा रही है।

औद्योगिक इकाइयों में इस समय 30 से 35 फीसद लोग ही आ रहे हैं। जिसके चलते सामान्य दिनों की तुलना में इस समय एक तिहाई उत्पादन ही हो पा रहा है। कई औद्योगिक इकाइयों में उत्पादन हो रहा है। इंडस्ट्रियल इस्टेट में भी सोमवार को पास जारी होने की संभावना है, इसके बाद यहां की भी एक दर्जन इकाइयों में उत्पादन शुरू हो जाएगा। – एसके अग्रवाल, पूर्व अध्यक्ष, चैंबर ऑफ इंडस्ट्रीज

किसानों व बैनामा कराने वाले लोगों की दिक्कतों को देखते हुए कुछ शर्तों के साथ जनसेवा केंद्रों को खोलने की अनुमति दी गई है। केंद्र सुरक्षा के मानकों का ध्यान रखते हुए सुबह 9.30 बजे से शाम पांच बजे तक खोले जाएंगे। इन केंद्रों से आधार के जरिए रुपये भी निकाल सकेंगे। शर्तों का उल्लंघन करने पर केंद्र का लाइसेंस निरस्त कर विधिक कार्रवाई भी की जाएगी। संचालकों को केंद्र पर खतौनी के 30 रुपये तथा ई-डिस्ट्रिक्ट की अन्य सेवाओं के लिए 20 रुपए मात्र की सूचना चस्पा करनी होगी।

ई-डिस्ट्रिक्ट प्रभारी नीरज श्रीवास्तव ने बताया कि किसी भी केंद्र पर एक समय में पांच से अधिक लोग नहीं रहेंगे। सभी को मास्क या गमछा का प्रयोग करना होगा। केंद्र पर साफ-सफाई, हैंडवाश या सैनिटाइजर की व्यवस्था करनी होगी। फिजिकल डिस्टेंसिंग का पूरी तरह अनुपालन कराना होगा। जनसेवा केंद्र के संचालकों को आरोग्य सेतु एप इंस्टाल करना होगा तथा दूसरों को भी इंस्टाल करने के लिए प्रेरित करना होगा। केंद्रों पर कोरोना वायरस से बचाव के पोस्टर भी लगाने होंगे। उन्होंने कहा कि लॉकडाउन के दौरान अगर किसी केंद्र संचालक को कोई दिक्कत हो तो वह उनके मोबाइल नम्बर 9451065121 पर संपर्क कर सकता है। यहां आमजन भी शिकायत कर सकते हैं।