शुक्रवार, दिसम्बर 3

गोरखपुर में 12948 रोजगार का सौगात, 7200 सीट बुक हुआ जल्दी करे बाद में मत बोलना बेरोजगार हूँ।

दीनदयाल उपाध्याय गोरखपुर विश्वविद्यालय परिसर में रविवार को आयोजित होने वाले वृहद रोजगार मेले में 12948 लोगों को रोजगार मिलेगा। आयोजकों के अनुसार शनिवार शाम छह बजे तक 83 कंपनियों ने इन पदों पर भर्ती के लिए अपनी सहमति दे दी थी। मेले में अधिक से अधिक लोगों को रोजगार दिलाने के लिए आयोजक आखिरी क्षण तक विभिन्न कंपनियों से संपर्क साधने में जुटे रहे।

मेले में अभ्यर्थियों को कोई कठिनाई न हो। इसके लिए शनिवार को दीक्षाभवन में कौशल विकास मिशन, प्रशिक्षण व रोजगार के डायरेक्टर कुणाल सिल्कू ने विभाग से संबंधित अधिकारियों की बैठक ली। उन्होंने कहा कि समय से पहले छोटे-छोटे बिंदुओं पर तैयारी कर ली जाए। डिस्प्ले बोर्ड लगा दिए जाएं। मेले में 330 कर्मचारी, 330 वालंटियर लगाए गए हैं। 70 काउंटर बनाए गए हैं। साक्षात्कार के लिए दीक्षा भवन के 32, वाणिज्य संकाय के 55, गृह संकाय के सात, दृश्य कला के तीन कक्ष होंगे। पोर्टल पर पंजीकृत लोग सीधे साक्षात्कार कक्ष में जा सकेंगे।

ज्वाइंट डायरेक्टर आइटीआइ राजेश राम का कहना है कि उनके यहां 7200 ऑफलाइन पंजीकरण हो चुके हैं। अभी आजमगढ़ व बस्ती के आंकड़े नहीं मिले हैं। कौशल विकास में पांच हजार पंजीकरण हुए हैं। मेले में स्पाट रजिस्ट्रेशन की व्यवस्था होगी। इसके लिए 34 काउंटर लगाए जाएंगे। उधर क्षेत्रीय सेवायोजन अधिकारी अखंड प्रताप सिंह का कहना है कि दो हजार ऑनलाइन व 1800 ऑफलाइन पंजीयन हुए हैं।

ज्वाइंट डायरेक्टर आइटीआइ राजेश राम ने बताया कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की सभा रविवार को कला संकाय के सामने खेल मैदान में होगी। यह सभा पहले दीक्षा भवन में होनी थी। यहां पांच हजार से अधिक लोगों के बैठने की व्यवस्था रहेगी। सभा स्थल के पास में ही स्पाट रजिस्ट्रेशन काउंटर होंगे। फूड कोर्ट मैदान में किनारे रहेगा। डीएसओ आनंद कुमार सिंह का कहना है कि फूड कोर्ट में 25 दुकानें लगेंगी। बाजार दर पर लोगों को जलपान मिलेगा।

क्षेत्रीय सेवायोजन अधिकारी अखंड प्रताप सिंह ने कहा कि जिले के 12 विद्यालयों से करीब दो हजार बच्चों को बुलाया जा रहा है, ताकि उन्हें कॅरियर काउंसिलिंग के टिप्स मिल सकें। उन्होंने कहा कि मुख्य आयोजक की भूमिका में राजकीय औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान है। नाश्ते की व्यवस्था उन्हीं के स्तर से होगी। उधर ज्वाइंट डायरेक्टर आइटीआइ राजेश राम ने कहा कि उनकी तरफ से बच्चों के नाश्ते का कोई प्रबंध नहीं हैं। फूड कोर्ट में लोग भुगतान कर नाश्ता लेंगे। हालांकि जिला विद्यालय निरीक्षक ज्ञानेन्द्र सिंह ने कहा कि बोर्ड परीक्षाएं करीब हैं। कुछ बच्चों की प्री परीक्षाएं हो रही हैं। ऐसे में बच्चों को नहीं भेजा जा सकता।

12 Comments

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *