सोमवार, नवम्बर 29

गोरखपुर जोन में मृत व्यक्ति का रिपोर्ट निगेटिव सबने मिलकर अंतिम संस्कार किया अब रिपोर्ट पॉजिटिव

कोरोना जांच की रिपोर्ट आने से पहले शनिवार को जिस व्यक्ति का शव उसके परिजनों को सौंप दिया गया था, वह कोरोना संक्रमित था। अंतिम संस्कार के बाद रविवार को आई जांच रिपोर्ट में उसके कोरोना पॉजिटिव होने की पुष्टि हुई । इसके चलते  मृत व्यक्ति के गांव की पांच हजार की आबादी सांसत में पड़ गई है।


जानकारी मिलने पर सोमवार सुबह प्रशासनिक अधिकारी मौके पर पहुंच गए। गांव को सील कर मृतक के संपर्क में आने वालों की सूची बनाई जा रही है। मेडिकल कॉलेज प्रशासन का दावा है कि शव, कोविड-19 मानकों के तहत सौंप गया था, लिहाजा संक्रमण का खतरा नहीं है। इसके उल्टे ग्राम प्रधान का कहना है कि मेडिकल कॉलेज प्रशासन की लापरवाही से कइयों के कोरोना संक्रमित होने का खतरा पैदा हो गया है।


एसडीएम बांसगांव पंकज दीक्षित का बयान भी मेडिकल कॉलेज प्रिसिंपल और सीएमओ के बयान के एकदम उलट है। एसडीएम कहते हैं कि स्वास्थ्य विभाग की तरफ से लापरवाही हुई है। उन्होंने रिपोर्ट निगेटिव बताकर परिजनों को शव सौंप दिया। गांव में कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग की गई है। पूल सैंपलिंग भी कराई जाएगी।  जानकारी के मुताबिक बेलीपार का कनइल निवासी 52 वर्षीय व्यक्ति मुंबई से लौटा था। उसे किडनी सहित अन्य बीमारियां थीं। शुक्रवार की रात में तबीयत बिगड़ी तो परिजन उसे बीआरडी मेडिकल कालेज में जांच के लिए ले गए। डॉक्टरों ने कोरोना जांच के लिए नमूना लिया। शनिवार को उसकी मौत हो गई।

शनिवार की शाम डॉक्टरों ने ट्रूनेट मशीन से जांच कराई तो स्क्रीन पॉजिटिव आया। बावजूद इसके उसके शव को अंतिम रिपोर्ट आने से पहले परिजनों के सुपुर्द कर दिया। रविवार को उसका अंतिम संस्कार गांव के पास राप्ती नदी के कनइल घाट पर किया गया। रविवार की देर रात जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद पूरे गांव में हड़कंप मच गया।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *