सोमवार, नवम्बर 29

गोरखपुरवासियो को जल्द मिलेगी ये बड़ी खुशखबरी, शहर के डीएम के. पंडियान ने दी ये जरूरी सुचना

अब जनता का इंतजार खत्म होने को है। जिला प्रशासन ने चिलुआताल को संरक्षित करने के साथ ही उसे पर्यटन स्थल के रूप में विकसित करने की तैयारी शुरू कर दी है। रामगढ़ताल पर बनाए गए ‘नया सवेरा’ की तर्ज पर ही चिलुआताल को विकसित किया जाएगा। इस पर करीब 50 करोड़ रुपये खर्च होने का अनुमान है। ताल में दो नौका विहार बनाए जाएंगे। इसके अलावा ताल के चारों ओर घाट और पाथवे भी बनाया जाएगा जिससे पर्यटन को बढ़ावा मिल सके। चिलुआताल को विकसित करने में आ रही अड़चनों को दूर करने के लिए तहसीलदार सदर डॉ. संजीव दीक्षित के नेतृत्व में राजस्व टीम ने सोमवार को मौके का मुआयना किया है।

करीब चार सौ एकड़ में फैले चिलुआताल को जिला प्रशासन फर्टिलाइजर का निर्माण करने वाली संस्था एचयूआरएल (ङ्क्षहदुस्तान उर्वरक रसायन लिमिटेड) के सहयोग से शहर का नया पिकनिक स्पाट बनाने जा रहा है। जिला प्रशासन की कार्य योजना के मुताबिक जब तक एचयूआरएल फर्टिलाइजर के लिए टाउनशिप विकसित करेगा, तब तक चिलुआताल के सौंदर्यीकरण का कार्य पूरा करा लिया जाएगा। फर्टिलाइजर के लिए विकसित हो रहे टाउनशिप में करीब एक लाख लोग रहेंगे। ऐसे में उनके लिए पेयजल की सुविधा का इंतजाम भी चिलुआताल से किया जाएगा। महेसरा पुल के नीचे तक एचयूआरएल ताल के सौंदर्यीकरण का कार्य करेगी जबकि उसके बाद के हिस्से के सौंदर्यीकरण का कार्य जिला प्रशासन जल निगम के माध्यम से कराएगा।

एचयूआरएल ताल की गहराई बढ़ाने के लिए ड्रेजिंग का कार्य भी करा रहा है। चार से पांच मीटर तक ड्रेजिंग के कार्य में लगभग 25 करोड़ रुपये खर्च होंगे जिसे एचयूआरएल वहन करेगा। इसके एवज में जिला प्रशासन एचयूआरएल को ताल के पानी के इस्तेमाल की अनुमति देगा। फर्टिलाइजर की ओर ताल के सौंदर्यीकरण का कार्य शुरू भी करा दिया गया है। रबर डैम बनाने के साथ ही ड्रेजिंग का कार्य भी चल रहा है। जनता के आवागमन के लिए 1.6 किमी लंबा पाथवे भी बनाया जाएगा। बरसात के मौसम में रोहिन नदी का पानी चिलुआताल में आ जाता है। इससे सिक्टौर समेत कई गांवों में बाढ़ की स्थिति बन जाती है। ताल की गहराई बढऩे से इन गांवों को बाढ़ से स्थाई तौर पर निजात मिलेगी।

जल्द ही शहर को नया पिकनिक स्पॉट मिलेगा। रामगढ़ताल पर बनाए गए ‘नया सवेरा’ की तर्ज पर चिलुआताल को विकसित किया जाएगा। इसके सौंदर्यीकरण पर 50 करोड़ की लागत आने की उम्मीद है। शहर को फैलाव देने के लिए यह योजना अत्यंत ही महत्वपूर्ण है। फर्टिलाइजर, महिला बटालियन, पुलिस ट्रेनिंग सेंटर व सैनिक स्कूल बनने से यहां के लोगों को पर्याप्त रोजगार के अवसर उपलब्ध होंगे। – के. विजयेंद्र पाण्डियन, जिलाधिकारी

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *