सोमवार, नवम्बर 29

गोरखपुरवासियो की घटेगी परेशानी, शहर का ये प्रमुख रोड अब मार्च में होगा शुरू, आधा निर्माण बाकी

मेडिकल कॉलेज रोड तय समय में पूरा न होने पाने से नागरिकों की परेशानी बढ़ गई है। साढ़े तीन साल से नागरिक दुश्वारियां झेल रहे हैं। पहले सड़क निर्माण को पूरा करने का समय मई 2018 निर्धारित था। पीडब्लूडी ने अब यह लक्ष्य मार्च 2020 रखा है लेकिन इस अवधि में भी सिर्फ एक माह शेष है और काम लगभग आधा बाकी। पुनरीक्षित बजट तो स्वीकृत हो गया है लेकिन धन का आवंटन अभी नहीं हो पाया है। धन मिलने के बाद भी कम से कम तीन माह निर्माण पूरा होने में लग सकते हैं। इस लेट-लतीफी से आम नागरिकों की दुश्वारियां बढ़ गई हैं।

असुरन-परतावल की 19.4 किमी सड़क को फोरलेन सीसी रोड बनाने के लिए मई 2016 में 183.34 करोड़ रुपये का बजट स्वीकृत हुआ था। मेडिकल कॉलेज से असुरन तक डामर वाली सड़क बननी थी। बाद में इसे भी सीसी रोड बनाते हुए मॉडल रोड के रूप में विकसित करने का मुख्यमंत्री ने निर्देश दिया। इसके लिए अगल-बगल के मकान तोड़े गए। पुन: मकानों के मुआवजा को शामिल करते हुए 434.91 करोड़ रुपये का पुनरीक्षित बजट बना, जो अब स्वीकृत हो गया है, लेकिन धन का आवंटन अभी नहीं हुआ है।

 

 

मेडिकल से असुरन के बीच में निर्माण अभी आधा बाकी है। इससे जनता की दुश्वारियां बढ़ गई हैं। निर्माण के चलते असुरन से एचएन सिंह चौराहे तक सड़क चलने लायक नहीं रह गई है। पूरी सड़क खराब हो चुकी है। बारिश हो जाने से जगह-जगह गड्ढे पानी से भर गए हैं, जो दुर्घटना को दावत दे रहे हैं। जब बारिश नहीं होती तो सड़क पर धूल उडऩे से नागरिक परेशान होते हैं। जबकि इस मार्ग से बड़ी संख्या में एंबुलेंस व स्कूली वाहनों का आना-जाना होता है।

कई बार डिजाइन को लेकर तब्दीली हुई। इससे कार्य में विलंब हुआ। एचएन सिंह चौराहे तक निर्माण लगभग पूरा हो चुका है। पुनरीक्षित बजट स्वीकृत हो गया है। धन आवंटित होने के बाद तीन माह में निर्माण पूरा करा देंगे। – एसपी सिंह, मुख्य अभियंता, पीडब्लूडी

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *