शुक्रवार, दिसम्बर 3

खुशखबरी : भागलपुर में 14 किलोमीटर स्मार्ट सड़क और सैंडिस कंपाउंड स्मार्ट सिटी टीम ने झोकि ताकत

शहर को स्मार्ट सिटी की योजना में शामिल किए जाने के तीन वर्ष बाद भी धरातल पर कार्य नहीं उतर पाया है। इसको लेकर योजनाएं बनीं, निविदा भी जारी हुई लेकिन कंपनियों ने रुचि नहीं दिखाई। स्मार्ट सिटी मिशन के डायरेक्टर के फटकार के बाद गत तीन माह से भागलपुर स्मार्ट सिटी लिमिटेड की पूरी टीम ने सारी ताकत झोंक दी है। नए वर्ष में योजना को धरातल पर उतारने के संकल्प के साथ कई निविदाएं भी जारी की गई हैं। मार्च तक कंट्रोल एंड कमांड केंद्र भवन, कंट्रोल एंड कमांड केंद्र साफ्टवेयर, सैंडिस कंपाउंड के सुंदरीकरण, स्मार्ट सड़क व कूड़ा निस्तारण आदि योजना धरातल पर उतरेगी। भागलपुर स्मार्ट सिटी लिमिटेड के सीईओ सुनील कुमार व सीजीएम ब्रजेश कुमार आदि ने शहरवासियों को आश्वस्त किया है जनसहयोग से योजना को साकार किया जाएगा।

स्मार्ट सिटी की योजना से शहर में 191.7 करोड़ की लागत से कंट्रोल एंड कमांड केंद्र साफ्टवेयर का कार्य होगा। इससे ई-गवर्नेंस की सुविधा के साथ शहर में आधुनिक व उच्चतम गुणवत्ता वाले 31 सौ सीसीटीवी कैमरा लगाया जाना है। इसकी निविदा में शामिल होने को 31 कंपनियां दिलचस्पी दिखा रही हैं। जनवरी में निविदा प्रक्रिया पूरी होने के बाद मार्च तक धरातल पर कार्य दिखेगा। पुलिस लाइन में कंट्रोल एंड कमांड केंद्र भवन का निर्माण किया जाएगा। 26.22 करोड़ की लागत से भवन निर्माण के लिए पुर्न निविदा निकाली गई है। चार जनवरी को कंट्रोल एंड कमांड केंद्र भवन की निविदा चलेगी। निविदा सफल रही तो नए वर्ष में निर्माण कार्य शुरू होगा।

शहर में हवाई सेवा को लेकर ठोस कदम नहीं उठाया गया। 2019 तक सिर्फ सपना ही दिखाया गया। नगर विकास मंत्री सुरेश शर्मा ने भी आश्वासन दिया। शहर को कभी स्मार्ट सिटी की योजना से विकसित करने की बात हुई थी। यहां से छोटे विमान उड़ान भरेंगे इसके लिए कंसलटेंसी के साथ बैठक हुई थी। इसकी भी उम्मीद अब बरकरार है। पटना स्मार्ट सिटी के पीडीएमसी ने शहर के लिए पहले चरण में 14 किलोमीटर स्मार्ट सड़क का डीपीआर तैयार की है। इसपर 180 करोड़ रुपये खर्च की योजना है। भागलपुर स्मार्ट सिटी के सीजीएम ब्रजेश कुमार ने बताया कि डीपीआर का तकनीकी समिति अवलोकन कर रही है। स्मार्ट सिटी बोर्ड से शीघ्र ही अनुमोदन के बाद निविदा प्रक्रिया शुरू होगी।

सैंडिस कंपाउंड और जयप्रकाश उद्यान का विकास दो चरणों में होगा। पूरा प्रोजेक्ट 80 करोड़ रुपये का तैयार किया गया है। बजट की कमी के कारण दो फेज में कार्य कराए जाएंगे। पहले फेज में 34 करोड़ की लागत से स्पोट्स काम्पलेक्स, बैडमिंटन कोर्ट, चारदीवारी, वाकिंग ट्रेक, क्लीवलैंड मेमोरियल का जीर्णोंद्धार, खान-पान के स्टॉल और खेल मैदान का विकास होगा।

स्मार्ट सिटी योजना की 33 करोड़ रुपये की लागत से कूड़ा निस्तारण की व्यवस्था को दुरुस्त किया जाएगा। आधुनिक प्रोसेसिंग मशीन, कनकैथी डंपिंग ग्राउंड में सूखा कूड़ा और गीले कचरे से जैविक खाद तैयार की जाएगी। दूसरे चरण में 40 करोड़ की लागत से कूड़ा संग्रह की व्यवस्था दुरुस्त होगी। नमामि गंगे योजना के तहत 254 करोड़ रुपये की राशि से साहेबगंज में 65 एमएलडी का सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट का कार्य नए वर्ष में शुरू होगा। इसकी निविदा में दो कंपनियां त्रिवेणी व अडाणी शामिल हुई है। सरकार से निर्णय मिलने के बाद कार्य शुरू होगा। इसके तहत 10 पंपिंग स्टेशन, 48.56 किलोमीटर नाला, 8.98 किलोमीटर मुख्य नाला बनेगा।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *