सोमवार, नवम्बर 29

खुशखबरी : गोरखपुर शहर को मॉडल सड़क का शानदार तोहफा, 26KM फोरलेन में तब्दील 250करोड़ मंजूर

शहर के विकास को लेकर सोमवार का दिन काफी खास रहा। गुरुंग तिराहे से लेकर खोराबार तक मॉडल सड़क को लेकर शासन ने 250 करोड़ रुपये की वित्तीय मंजूरी दे दी है। इसकी सूचना मुख्यमंत्री कार्यालय के ट्विटर अकाउंट पर जारी की गई। गुरुंग तिराहे से देवरिया सीमा तक 26 किमी का मार्ग चार लेन में तब्दील होगा। साथ ही गुरुंग तिराहे से खोराबार तक पांच किमी लंबी सड़क मॉडल बनाई जाएगी।

मॉडल सड़क के दोनों तरफ पाथवे, अंडरग्राउंड सीवेज और सर्विस लेन बनेगी। पांच किमी लंबी मॉडल सड़क के दोनों तरफ फुटपाथ, सर्विस लेन और अंडरग्राउंड केबिल डाली जाएगी। अंडरग्राउंड सीवेज सिस्टम भी विकसित किया जाएगा। सड़क के बीच में डिवाइडर बनेगा। करीब एक मीटर चौड़े डिवाइडर पर पेड़-पौधे भी लगाए जाएंगे। सड़क के दोनों तरफ हरियाली की व्यवस्था होगी।

सोमवार को इस कार्य के लिए 250.94 करोड़ रुपये की वित्तीय मंजूरी मिल गई है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बीते दिनों पांच किमी लंबी सड़क को मॉडल के रूप में विकसित करने का निर्देश दिया था। गुरुंग तिराहे से खोराबार होते हुए देवरिया बार्डर तक 26 किमी लंबी सड़क को नये सिरे से विकसित करने को लेकर पीडब्ल्यूडी ने 267.43 करोड़ रुपये का प्रस्ताव मंजूरी के लिए मुख्यालय को भेजा था। इस रकम से पांच किमी लंबी मॉडल सड़क के साथ ही तीन ओवरब्रिज का भी निर्माण होगा। पीडब्ल्यूडी के अफसरों के मुताबिक कड़जहा, मझना नाला और निबिहवा रेलवे क्रॉसिंग पर तीन ओवरब्रिज बनेंगे।

एक्सईएन पीडब्ल्यूडी एसपी भारती ने बताया कि मॉडल सड़क के लिए वित्तीय मंजूरी मिलने के बाद अब निर्माण कार्य में तेजी आएगी। गुरुंग तिराहे से लेकर खोराबार तक अतिक्रमण हटाकर सड़क का निर्माण तेज किया जाएगा। मार्च तक मॉडल सड़क का निर्माण पूरा करने का लक्ष्य है। भगत सिंह चौराहे से गोलघर होते हुए यातायात तिराहे तक स्मार्ट स्ट्रीट के प्रस्ताव को शासन की मंजूरी मिल गई है। इको फ्रैंडली स्मार्ट स्ट्रीट पर 48 करोड़ रुपये खर्च होंगे। बजट मिलते ही काम शुरू हो जाएगा। नगर निगम के मुख्य अभियंता सुरेश चंद ने बताया कि स्मार्ट स्ट्रीट के तहत गोलघर की दुकानों को लखनऊ के हजरतगंज की तरह एक रंग में रंगा जाएगा। गोलघर बजार भी अब स्मार्ट बनाया जाएगा।

14वें वित्त से मिले रुपये से हर वार्ड में 25 लाख रुपये तक के विकास कार्य होंगे। सोमवार को 70 पार्षदों में से ज्यादातर ने महापौर को प्रस्ताव दे दिया है। महापौर प्रस्तावों का परीक्षण कर नगर आयुक्त को भेजेंगे। महापौर सीताराम जायवाल ने बताया कि 14वें वित्त से 20 करोड़ रुपये मिले हैं। सभी वार्डों में कम से कम 25 लाख तक के काम हो सकें इसका प्रयास है। सूची के आधार पर कार्य का एस्टीमेट बनाया जाएगा और टेंडर जारी किया जाएगा। 15 फरवरी से पहले टेंडर की औपचारिकता पूरी कर ली जाएगी।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *