बुधवार, दिसम्बर 8

आज सिविल सर्विसेज डे पर भागलपुर के DM, DIG, SSP द्वारा दिया गया सफलता का मूलमंत्र, जरूर पढ़े

आज सिविल सर्विसेज डे है। भारत सरकार हर साल 21 अप्रैल को लोकसेवा दिवस के रूप में इस दिन को मनाती है। इस मौके पर अखिल भारतीय सेवा के अधिकारियों को उनकी सर्वश्रेष्ठ सेवा के लिए पुरस्कृत भी किया जाता है। यहां यह भी जानना जरुरी है कि देश इस समय महामारी की दौर से गुजर रहा है। देश कोरोना वायरस के संक्रमण से जूझ रहा है। ऐसे में इन अधिकारियों की जिम्मेदारी और बढ़ गई है।

ईमानदार कोशिश ही बनाएगी सफल

भागलपुर कोराना जैसी वैश्विक महामारी से जिले को सुरक्षित रखने के लिए सतत प्रयत्नशील जिलाधिकारी प्रणव कुमार सिविल सर्विस दिवस पर कहते गीता का एक श्लोक ‘कर्मण्येवाधिकारस्ते मां फलेषु कदाचन’ पढ़कर उदाहरण नई पीढ़ी को दिया हैं। उन्होंने कहा देश सेवा से बढ़कर कोई सेवा नहीं है। जो कॉम मिला है उस काम को पूरी तन्मयता के साथ करना चाहिए। इंसान के जीवन में कोई काम छोटा या बड़ा नहीं होता है। ईमानदारी से किया गया हर काम देश हित के लिए होता है। काम में इसी प्रकार की कोताही नहीं होनी चाहिए। उन्होंने विद्यार्थियों को कहा कि सफलता के लिए अपने लक्ष्य को निर्धारित करें। एकाग्रचित और ईमानदारी पूर्वक अध्ययन करने की जरूरत है। सफलता जरूर मिलेगी।

पुलिसिंग का मूलमंत्र है लोक सेवा

सिविल सर्विसेज में आने के बाद हमारी जिम्मेवारी बढ़ जाती है। पुलिसिंग का मूलमंत्र लोक सेवा है। कई जिलों में एसपी के तौर पर पोस्टिंग के दौरान कई सकारात्मक अनुभव मिले हैं, जिसमें मैंने समाज के साथ मिलकर विषम परिस्थितियों में भी बेहतर काम कर सका। सीबीआई के भ्रष्टाचार निरोधक दस्ते में भी भ्रष्टाचार के विरुद्ध लड़ा। जमीन विवाद एक नई समस्या है, जिसमें लोगों की अपेक्षाएं पुलिस से काफी ज्यादा है। जबकि ऐसे मामलों में लोगों को जागरूक होकर सरकार के नियमों का पालन करते हुए उचित माध्यम से पुलिस तक आने की जरूरत है। बावजूद लोगों की अपेक्षाओं को लेकर हम बेहतर करने की कोशिश करते हैं। इस सर्विस में आने के लिए युवाओं को कड़ी मेहनत के साथ बड़े त्याग की जरूरत है। तभी हम सफल हो सकेंगे। – सुजीत कुमार, डीआइजी भागलपुर रेंज

लोक सेवा में सेवा शब्द बहुत महत्वपूर्ण

पुलिस सेवा में रहते हुए अनुभव बड़ा सकारात्मक रहा है। लोगों को त्वरित न्याय की पहली सीढ़ी पुलिस है। लोगों की सेवा कर काफी संतुष्टि होती है। पुलिस के सामने कई चुनौतियां हैं। इसके बावजूद हम बेहतर करने का प्रयास करते हैं। सेवा में रहते हुए आर्थिक रूप से कमजोर छात्रों के लिए कम्युनिटी पुलिसिंग की शुरुआत शानदार अनुभव रहा है। सामान्य ड्यूटी के साथ समाज की बुराइयों को दूर करने के लिए नए-नए प्रयोग भी हो रहे हैं। इस विपदा की घड़ी में भी लगातार कई तरह की मदद के लिए फोन आते हैं। उन्हें सहायता प्रदान की जाती है। युवाओं से अपील है कि लोक सेवा में सेवा महत्वपूर्ण शब्द है। इस सेवा में आने के बाद समाज की अपेक्षाएं आपसे बढ़ जाती है। हमें भी जनता की सेवा और समाज की बेहतरी के लिए शत प्रतिशत देना होता है। तभी समाज के नवनिर्माण में पुलिस की भूमिका बेहतर रहेगी। – आशीष भारती, एसएसपी भागलपुर